Home राजनीति “हमारे देश में { राजनैतिक परिपेक्ष में }”

“हमारे देश में { राजनैतिक परिपेक्ष में }”

2 second read
0
0
977

[1]

हमारे देश में :-
“अरबों के घोटाले हो गए “, “जबतक सिर  से  पानी  ऊपर  उठे’ ,’ झपकी  लेते  रहे’ ,
‘आरोपी  चपत  लगा  कर  चंपत  हो  गए ‘, ‘ वित्त  व्यवस्था  कि  नीव  कमजोर  है ‘,
“प्रशासन  तथा  रसूखदार  लोगों  के  लिए ” “नियमों  को  नज़र  अंदाज़  करते  हैं ” ,
“कौन बताएगा” -” प्रणाली असफल क्यों है ” ? “पुख्ता  नियम  क्यों  नहीं  बनते ” |

[2]

हमारे देश में :-
‘त्याग और संयम ”जैसे मूल्य किसी  एक  पूजा  या  संप्रदाय  के  नहीं  होते” ,
” देश  कि  विविधता  में  एकता  के  स्वरूप  का  सम्मान  होना  ही  चाहिए” ,
” समाज  को  जोड़  कर  आगे  बढ़ने  का  काम”, “सर्वोत्तम  विधा  है  हमारी” ,
“झगड़ों   कि  आग  पर  दुनियाँ  रोटी  सेक  लेती  है “,”सब  मिल  कर  चलें “| |

[3]

” आंदोलन  की  आड़  में” ” इंसानियत की मौत  दिखाई  देती  है “,
” ज़िम्मेदारी  निभाओ “,”उत्तम  आ  करके दिखाओ”,’ आगे बढ़ो ” ,
” कमजोर  पर  लाठी  चला  कर ,”  ” कत्ल करके  क्या  मिलेगा ” ?
“पसीना बहाओ” ,”विकास का रास्ता पकड़ो”,”दुनियाँ तुम्हारी है” |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In राजनीति

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…