Home Uncategorized शुद्ध सुविचार जीवन के आधार हैं , जरा सोचें

शुद्ध सुविचार जीवन के आधार हैं , जरा सोचें

0 second read
0
0
722

जरा सोचो

‘हवा में लट्ठ’ बहुत चला लिया, कुछ ‘काम की बात’ भी करो,
‘विनयशील’ और ‘विवेकी’ बनकर ‘शिखरों” को छूने की कोशिश करो !

[2]

जरा सोचो
‘तुममें’ कशिश तो है,’हमारा ध्यान’ केवल तुम्हारी और है,
‘स्नेह का पौधा’ लग गया शायद ,’अंजामे गुलिस्ता’ क्या होगा ?

[3]

जरा सोचो
‘स्नेह का पौधा’ लगाया है तुमने, ‘सींचते’ भी रहना,
सही ‘खतवार’ सही ‘रखवाल’ ‘युवा’ बनाए रखेगी तुम्हें !

[4]

जरा सोचो
किसी के लिए ‘मोहब्बत’ ‘भूल’ है, किसी को ‘कबूल’ है,
‘हर कोई’ अपने अनुसार ‘आंकता’ है, यह ‘फलसफा’ आज तक नहीं बदला !

[5]

जरा सोचो
तुमने जो ‘रोशन’ किया ‘दीपक’, हम ‘जलाए’ रखेंगे,
चलो ‘कब तक’ सताओगे ? तुम्हें भी ‘देख’ लेते हैं !

[6]

जरा सोचो
‘झुक’ कर ही ‘आशीष’ मिलता है सबसे,
‘अकड़खां ‘सिर्फ ‘अकड़ते’ हैं, ‘मिलता’ कुछ भी नहीं !

[7]

जरा सोचो
कमरे का ‘दरवाजा’ खुला हो, ‘खटखटा’ कर जाना पड़े,
‘रिश्तों की दूरी’ का प्रारूप समझो, कोई ‘झुठला’ नहीं सकता !

[8]

जरा सोचो
सदा ‘मुस्कुराते’ आए हैं, ‘खिलखिलाना’ भी तुमने सिखाया,
किसी और ‘तोहफे’ की जरूरत नहीं, ‘जिंदादिल’ ही ‘बिदा’ होंगे !

[9]

जरा सोचो
कुछ तो ‘कशिश’ है ‘तुझमें’, सिर्फ तेरे ही ‘ख्वाब’ आते हैं,
पूरा ‘जहां’ ‘झकझोर’ डाला, ‘तुमसा दिलदार’ मिला नहीं कोई !

[10]

जरा सोचो
‘दौलत’-‘ जीवन स्तर’ को बदल डालती है,’ सम्मान ‘ करो,
परंतु ‘व्यवहार, बुद्धि और नियत’,को ‘बदलना’ भी बेहद जरूरी है !

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…