Home कविताएं देशभक्ति कविता “हम तो ज़िंदा भी मरे बराबर हैं ” !

“हम तो ज़िंदा भी मरे बराबर हैं ” !

0 second read
0
0
1,214

“प्रदूषण  , रेडिएशन  ,  मिलावट    और     भष्टाचार ” ,

“हम ,  मौत   के   मुंह   मे    धकेले   जा   रहे   हैं    रोज़ ” ,

“समाधान   बताने   वाले   ही’ , समस्या    बने   बैठे    हैं ‘,

‘भयंकर  रोगों  के  कारण  हम’ , ‘जिंदा  भी  मरे  बराबर  हैं ‘| 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…