Home कविताएं देशभक्ति कविता हमारा स्वाभिमान —“तिरंगा “

हमारा स्वाभिमान —“तिरंगा “

0 second read
0
0
1,317

“तिरंगा” हमारी “राष्ट्रियता ” और ” देशभक्ति ” की ” भावना” का ” प्रारूप” है ,

 “तिरंगा” हाथ   मे”  लेते  ही, ” शरीर ”  के ”   रोंगटों  ” मे ” रवानी ” आती    है ,

“तिरंगा ” “देश ” की ” शान “,”बान “,”आन ” मे ” लिपटा” “मुस्कराता ” है ,

“तिरंगा ” तो हमारी “भावना ” का ” सम्मान ” है ,”हमारा” ” स्वाभिमान ” है |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…