Home कहानी सफलता की कहानी सफलता और चुनौतियाँ

सफलता और चुनौतियाँ

1 second read
0
0
1,185

{ ! }’ बाज़ी   हमारे   हाथ   है ‘  , ‘हम   अपने   भीतर-बाहर    की   दुनियाँ   को ‘  ‘खुशनुमा   बनाते   हैं’  ,

‘हमारा     अंतेर्द्वंद ‘   ‘ निर्णय    पर    टिकने    नहीं    देता ‘ , ‘ अक्सर   समाधान    लटक    जाते    हैं ‘  ,

‘आत्म विश्वास    बढ़ाओ ‘ , ‘ डर’  और  ‘ तनाव’   घटाओ ,  ‘ अपना   खुद  का’ ‘ लक्ष्य   निर्धारित   करो’ ,

‘खुद    को    दोषी    मानना ‘ ,   ‘असफल   मानना  ‘ ,  ‘ खुद    के    पैरों    पर’   ‘कुल्हाड़ी    मारना    है ‘  

{ 2 } ‘ होसलों     की    उड़ान    भरों ‘  , ‘ जीवन    मे     संघर्ष     का   रास्ता   चुनो ‘ ,

‘नवीन    स्रजन    करो ‘ , ‘ समाज    का    नेत्रत्व’    ‘करने     की     कला     सीखो ‘  ,

‘सफलता ‘, ‘ऐश्वर्य ‘  और  ‘ सम्मान ‘   ‘तुम्हारे   सामने’  ‘नत-मस्तक   हो  जाएंगे’ ,

    ‘प्रगति   वो  ही   करते   हैं’  ‘जो  चुनौतियाँ   से  लड़ने  का ‘ ‘जज़्बा   सँजोये   रखते   हैं’  |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In सफलता की कहानी

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…