Home कविताएं प्रेरणादायक कविता सदा याद रक्खे’ – ‘तुम किस दिशा’ मे और ‘किस गति ‘ से बढ़ रहे हो

सदा याद रक्खे’ – ‘तुम किस दिशा’ मे और ‘किस गति ‘ से बढ़ रहे हो

0 second read
0
0
1,436

‘सदा याद रक्खे’ – ‘तुम किस दिशा’ मे और ‘किस गति ‘ से बढ़ रहे हो ?
‘विषय’ ‘कितना भी कठिन हो’, ‘पूरी तैयारी ‘ से बढ़ो, ‘कठिनाई ‘नहीं होगी |

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…