Home जीवन शैली “विक्रत मानसिकता ‘पाँव पसारने में कामयाब है हमारे देश में “|

“विक्रत मानसिकता ‘पाँव पसारने में कामयाब है हमारे देश में “|

1 second read
0
0
1,259

“न  घर  सुरक्षित” ,” न  शिक्षा  संस्थान”  , ” न  पार्क”और  “न  खेल  का  मैदान”  ,

“इससे   बड़ा   देश  का  दुर्भाग्य   क्या  होगा “,” हमारा  भविष्य  अंधकारमय   है “,

 “अबोधों  के साथ दुष्कर्म”,”हत्या”,”सामाजिक मूल्यों का पतन” “नहीं तो क्या है” ?

 “देश  में  विकृत  मानसिकता”  “दिन- प्रेति  दिन  पाँव  पसारने  में  कामयाब  है “| 

 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In जीवन शैली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…