रिस्ते

1 second read
0
0
1,078

{ 1 }’ वही     रिस्ते ‘   ‘ दूर    तक    और     देर    तक    निभते     हैं ‘ ,

‘जिनकी     डोर     से ‘    ‘ मर्यादा     का     बांध      बना     होता     है ‘  ,

‘अमर्यादित     रिस्ते ‘- ‘टूटन      की     बाढ़      मे’    ‘ बह   जाते    हैं’    ,

‘पीछे    रह    जाते    हैं’  ‘अवशेष’ , ‘ कसक’   और  ‘अशिष्ट   व्यवहार ‘ |

 

{ 2 }

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In मित्रो की कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…