Home कविता “मौत की घड़ी को आते नहीं देखा “

“मौत की घड़ी को आते नहीं देखा “

0 second read
0
0
1,055

“शक    के   रोगी    का    उपचार’   ‘ कभी    होते    नहीं    देखा ” ,

“सूरज   कभी   शाम   को   निकलता   हो” , ” कभी  नहीं  देखा ‘,

‘भयंकर   से    भयंकर    बीमारी   का’  ‘ इलाज़  तो  होते  देखा ‘,

‘मौत  कब  दस्तक  दे  जाए ‘, ‘उस  घड़ी  को  आते  नहीं  देखा ‘|

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…