Home Uncategorized प्रेम , धन और सफलता -क्या चाहते हो तुम ?

प्रेम , धन और सफलता -क्या चाहते हो तुम ?

7 second read
0
0
1,768

 

एक  बार  एक  औरत  ने  अपने  घर  के  सामने  तीन   संतों   को  देखा  लेकिन  वह  उन्हें  जानती  नहीं  थी |

उस  औरत  ने  कहा -‘ कृपया  भीतर  आइये  और  भोजन  करिये ‘ |

संत  बोले – ” क्या  तुम्हारे  पति  घर पर  मौजुद  हैं  ?

औरत  ने  कहा – ‘नहीं ,  अभी  वह  बाहर   गए हुए  हैं  ‘?

संत  ने  कहा -‘ हम  तभी  घर  मे  प्रवेश  करेंगे  जब  वह  घर  पर  ही  हों |

शाम  के  समय  उस  औरत  का  पति  घर  आया  तब  उस  औरत  ने  सब  बात  अपने  पति  को  बताई  | पति  ने  कहा , ‘जाओ  और  उनसे   कहो   कि   मैं  आ

गया  हूँ  और  आपको  आदर  सहित  घर  मे  बुलाया  है “| औरत  बाहर  गयी  और  उन  संतों  को  भीतर  आने  का  आमंत्रण   दे  दिया  |

संत  बोले ,’हम  तीनों  किसी  के  घर  एक  साथ  नहीं  जाते ‘ |

औरत  ने  पूछा — ‘परंतु  क्यो ‘ ?

उन  संतों  मे  से  एक  संत  ने  कहा ,-‘ मेरा  नाम ‘धन ‘ है ‘, मेरे  साथ  खड़े 

हुए  का  नाम  ‘सफलता ‘ है ‘  और  सामने  खड़े  हुए  का  नाम  ‘प्रेम ‘ है “|

‘हमारे  मे  से  कोई  एक  ही  किसी  घर  मे  प्रवेश  कर  सकता  है  | आप  घर  के  अन्य   सदस्यों   से   मिलकर   तय   कर   लो    कि   घर   मे   किसे   निमंत्रित  करना  है”

औरत   ने   भीतर   जा   कर  अपने   पति   से   सब   बातें   बता   दी  | उसका

 पति  बहुत    प्रसन्न  हुआ  और  बोला —‘ यदि  ऐसा   है   तो  हमें  ‘धन’  को  आमंत्रित   करना  चाहिये  , हमारा  घर  खुशियों  से  भर  जाएगा  “|

पत्नी  ने  कहा – ‘ हमें   ‘सफलता’  को  आमंत्रित  करना  चाहिए ‘ | 

उनकी  बेटी  माँ-बाप  कि  वार्ता  सुन  रही  थी |  वह  उनके  पास  आई  और

 बोली – ‘ ‘प्रेम’  से  बढ़  कर   कुछ  भी  नहीं , इसलिए  हमें  केवल  ‘प्रेम’  को

 ही  घर  मे  आमंत्रित  करना  चाहिए ‘ | 

‘तुम   ठीक   कह    रही   हो ,   हमे  ‘प्रेम’   को    ही   बुलाना   चाहिए ‘ , यह   बात   माँ-बाप  ने  कही |  तुरंत  वह  औरत  बाहर  गयी  और  उसने  संतों  से  कहा  ,

‘आपमे  ‘प्रेम’  जिसका   नाम   हो   कृपया   घर   मे   प्रवेश   करें   और   सादर   भोजन  ग्रहण  करें ‘|

‘प्रेम’  घर   कि   और   बढ़   चले  | देखते- देखते   बाकी   के   दो   संत  भी  उनके  पीछे   चलने  लगे  | आश्चर्य  से  उन  दोनों  से  पूछा ,’ मैंने  तो  सिर्फ  ‘प्रेम’  को  ही  आमंत्रित  किया  है  आप  दोनों  भी  भीतर  कि  और  क्यों  चले  आ  रहे  हैं ‘?

उनमें  से  एक  संत  ने  कहा ,’ यदि  आपने  ‘धन’  और  ‘सफलता’  मे  से  किसी  एक  को  आमंत्रित  किया  होता  तो  वही  भीतर  जाता  | परंतु  आपने  ‘प्रेम’  को  आमंत्रित  किया  है  और  ‘प्रेम’  कभी  अकेला  नहीं  जाता ,  ‘प्रेम’  जहां-जहां

जाता  है ।’धन’ और ‘सफलता’  उसके  पीछे   जाते  हैं “|

भावार्थ  :-  ‘ सदा  ‘प्रेम’  बांटे , ‘प्रेम’  दें ,और  ‘प्रेम’  लें  |

क्योंकि

                ‘ प्रेम ‘  ही  सफल  जीवन  का  ‘राज’  है  |

 

 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…