Home कविताएं धार्मिक कविताएँ तू ‘ ‘चाहे कितना भी ज्ञानी हो ‘

तू ‘ ‘चाहे कितना भी ज्ञानी हो ‘

1 second read
0
0
1,198

‘तू ‘ ‘चाहे कितना भी ज्ञानी हो ‘ , ‘कभी मूर्ख से’ , ‘घमंडी से’ ,’ संत से ‘ , ‘अपने सर्व-प्रिय जनों ‘ से ‘ वाद-विवाद’ ‘ मत करना’ , क्योंकि ‘ इस विवाद’ का ‘ अन्त ‘ ‘अप्रिय ‘ ही होता है |

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In धार्मिक कविताएँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…