Home कविताएं जीवन के विभिन्न रंगों पर कुछ छंद – जो आपको आनंदित करें !

जीवन के विभिन्न रंगों पर कुछ छंद – जो आपको आनंदित करें !

2 second read
0
0
1,275

 

 

{1}

“खुद पर विश्वास” और ‘मकसद खास” “जिंदगी में मिठास लाते हैं” ,
“खुशियों के खजाने कम नहीं होते” ,”जीने के अंदाज़ बदल जाते हैं” |

[2]

“कोई मोहब्बत करे या नफरत” “,यह दिल का मामला है ” ,
“हमारे अहसासों का खेल है” ,” सिर्फ विचारों का द्वंद है” |

[3]

“आईना आपको जो चेहरा दिखाता है” ,” खिलखिलाना चाहिए “,
“ज़िंदादिली ज़िंदा रहे “, “मुर्दा दिल क्या खाक जिया करते हैं ” ?

[4]

“किसी के लिए आप एक व्यक्ति हो” ,” तो किसी के लिए पूरी दुनियाँ “,
“मरहम बन कर घावों को भरता चल “,” दिखावट की जरूरत नहीं कहीं” ,
“दूसरों की नज़र में अच्छा-बुरा कुछ भी हो सकते हो” ,”यह पैमाना नहीं “,
“दिल सही जज है” ,”तराज़ू में तोल कर बता देगा”,”तू कितने पानी में है” ?

[5]

“दिल दुखाने का बुरा क्यों मानते हो” ,” दुनिया आनी जानी है “,
“ज्यादा मीठे फल देने वाले पेड़ों पर “, “पत्थर बरसाए जाते हैं ” |

[6]

“कड़वी जुबान है तो इंसान क्या” ” चींटियाँ भी नहीं फटकती वहाँ “,
“दूर रह कर भी मीठे बोलते रहे “,”कोयल की झंकार सुनाई देगी सबको “|

[7]

“तकलीफ आती है तभी अहसास होता है” ,’जिंदगी क्या है” ?
“मस्ती तो मस्ती है सब भूल जाते हैं “,” ‘जिंदगी क्या है ?

[8]

“यह जीवन प्रभु का सर्वोत्तम वरदान है” , “संवार कर रक्खो” ,
“धोखा, टूटना,बिखरना ,संभलना” ,”इसकी विभिन्न विधाएँ हैं” ,
“टूटते को संभालना” ,”गिरते को उठाना” ,”रोते व्यक्ति को हँसाना” ,
“भूखे को रोटी” “,प्यासे को पानी” ,” बस जीवन की सही रवानी है” |

[9]

“दुश्मन को अनेकों अवसर दिये ,’मित्र बनने के लिए” ,
“मित्र को कोई अवसर नहीं दिया””हमारा दुश्मन बन जाए” |

[10]

“जब एक छण का भरोसा नहीं”,”अगला सांस आए या नहीं आए”,
“हर छण को अपनों के बीच ही ” “मुस्करा कर जी लिया जाए ” |

[11]

“जिनकी बातों में अपनापन छलकता हो “,” बमुस्किल से मिलते हैं “,
“कितने ही मुकाम आए आजमाने के “,”अपनापन ढूंढते ही रह गए ” |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In कविताएं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…