जीवन का सार

1 second read
0
0
1,309

‘जहां    तन   हो    वहीं    मन    हो’   ,  ‘ इसी     को    .ध्यान     कहते     हैं ‘ ,

”तन   को  तो  स्थिर   कर   लिया’ , ‘मन  भरमता   रहा’ , ‘सब   बेकार   है’  ,.

‘अन्तःकरण     की    शुद्धि      हेतु’   ‘ योगाभ्यास     करना     ज़रूरी     है ‘  ,

‘नाक     की     नोक ‘-  ‘नेत्रों     के     बीच    भ्रकुटी     पर’  ‘ स्थिर    करो’  ,

‘हंस     जैसा    बनो ‘ ,  ‘दूध     ग्रहण     करते     चलो ‘  ‘ पानी     त्यागो ‘ ,

‘इस    ज्ञान    को   समझो’  ‘जहां   मन   लगाना   है’ ,  ‘ बाकी   को   छोड़ो ‘ ,

‘आत्म    ज्ञान    हो    गया ‘  तो   ‘ जीवन    सफल     हो    गया    समझो ‘ ,

‘सार  -वस्तू     ग्रहण     करते     चलो’  , ‘ यही    जीवन    का    सार     है ‘     |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In सेल्फ इम्प्रूव्मन्ट

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…