Home ज़रा सोचो जब तू ‘ ‘अहम’ मे ‘ डूबता है ‘ , ‘किसी को कुछ भी नहीं समझता

जब तू ‘ ‘अहम’ मे ‘ डूबता है ‘ , ‘किसी को कुछ भी नहीं समझता

1 second read
0
0
1,570

‘जब तू ‘ ‘अहम’ मे ‘ डूबता है ‘ , ‘किसी को कुछ भी नहीं समझता ‘,
‘और जब’ ‘वहम ‘ करता है ‘ किसी पर’ , ‘सीना फाड़ देता है उसका ‘,
‘अहम ‘ और ‘वहम ‘ ‘दोनों को जीवन से उतार फैकों’ –‘ दोस्तों ‘,
‘दोनों नष्ट-कारक हैं ‘,’ कष्ट- दायक हैं’ ,’ कोई दवा नहीं इनकी ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…