Home ज्ञान छमा ‘- धर्म है , ‘संस्कार’ है , सहनशक्ति का स्वरूप है !

छमा ‘- धर्म है , ‘संस्कार’ है , सहनशक्ति का स्वरूप है !

2 second read
0
0
1,232

‘छमा   से’ ‘ हमारे   संस्कार   पलते   हैं  ‘,  हमारा   अहंकार ‘ ढलता   है  ‘,

‘छमा ‘  शीलवान   का   शास्त्र  ‘ और  ‘ अहिंसक  ‘  का   मोघ- अस्त्र    है  ,

‘छमा’-‘धर्म है’, ‘छमा ‘-यज्ञ  है ‘,’छमा ‘-‘ वेद  है ‘ और ‘छमा’ – ‘शास्त्र है ‘,

‘अहं  से  ऊपर  उठ  कर’  ‘छमा तो ‘ – ‘सहनशील   प्राणी   ही  कर  पाएगा’  |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज्ञान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…