Home कोट्स Love Quotes “कुछ रोज़ की आपस की बातें छंदों के रूप में “|

“कुछ रोज़ की आपस की बातें छंदों के रूप में “|

2 second read
0
0
1,074

[1]

” मेरी  झुर्रियों  पर  मत  जा  “,”  ये  उम्र  भर  के  तजुर्बों  का  खजाना  है  “,
“दुनियाँ  ने  खूब  रुलाया-हँसाया  है “, “झुर्रियों  का पिटारा सौंप  दिया  है “|

[2]

” अनगिनत  पेड़  उगा   दिये  प्रकृति  ने  बिना  किससी  स्वार्थ  के “,
” फल’, ‘ फूल ‘, ‘ ताज़ी  हवा’, ‘ बिना  मांगे  सबको  नसीब  होते  हैं ‘,
‘तू भी बिना शर्त ‘, ‘बिना स्वार्थ ‘,’ मानव  सेवा  करके देख तो सही’ ,
‘निश्चित ही ‘, ‘ तुम्हें  अपने  कार्यों  का  पश्चाताप  नहीं  होगा  कभी  ‘ |

[3]

“अगर  दिल  से  दिल  मिलता  है” ” तो  समझो  एक  तार  के  टुकड़े  हैं  हम “,
“तोड़ो’,’मरोड़ो’ या ‘ कुछ  भी  बिगड़ दो उसका’,’अलग  हो  नहीं  सकते  कभी ‘|

[4]

“कितने भी गम सताएँ आपको “,” बेगम बन कर खड़े रहो “,
“बस मंद मुस्कराते रहो,” “सारे गम  डर कर  भाग जाएंगे ” |

[5]

‘ध्यान  रहे’ ,’हर  किसी  की  जिंदगी  में  खुशियों  के  रंग  भरते  चलो ‘,,
‘कहीं  ऐसा  न हो  जाए’ ‘तुम  किसी की बरबादी  का कारण बन जाओ ‘|

[6]

”  हाँ  यह  सत्य  है ” ” तुम  हर  किसी  को  प्रसन्न  नहीं  कर  सकते “,
“हाँ यह अवश्य कर सकते हो “”हर कोई आपके प्रयास को सार्थक कहे “|

[7]

“पाँव  के  छालों  को  देख  जो  घबरा  गया “, “बस मर गया समझो “,
“कमजोर सोच व डरपोक दिल वाले “, “मंजिल पा नहीं सकते कभी “|

 [8]

”  सदा   मित्रों  को   दिल   से   स्नेह   करो  “, ” मूड   या  जरूरत   के   अनुसार   नहीं  “,

मित्रता अटूट बँधन है, स्नेहा लिप्त है”,“उसे घटिया बनाने का किसी को अधिकार नहीं “|

 

 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Love Quotes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…