Home कविताएं प्रेरणादायक कविता किसी चीज की अधिकता

किसी चीज की अधिकता

0 second read
0
0
1,296

‘जो     स्त्री ‘   ‘ जरूरत     से    ज्यादा    लज्जा  ‘   करती     है  , ‘वह    कुल्टा    व   ढोंगी   देखी ‘,

‘खारा   पानी     ‘  ज्यादा   शीतल    होता   है ‘  , ‘पाखंडी ‘  ‘ ज्यादा   आचरण    पेश   करता   है ‘ ,

‘धूर्त’- ‘ज्यादा   मीठा   बोलते    हैं’ , ‘बड़े   चापलूस   होते   हैं ‘ ,  ‘सदा   उनसे   बच   कर   चलो ‘,

‘जिसने     नींद     से    ज्यादा    प्या’र     किया ‘, ‘ तो   समझो’  – ‘ वो   ज़िंदा  ही    मर   गया ‘  | 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…