Home ज़रा सोचो ‘किसी की भी प्रशंसा कर’ , ‘दिल खोल कर दिखा दे उसको’

‘किसी की भी प्रशंसा कर’ , ‘दिल खोल कर दिखा दे उसको’

0 second read
0
0
1,274

‘किसी की भी प्रशंसा कर’ , ‘दिल खोल कर दिखा दे उसको’ ,
‘पर अपमान ‘– ‘वो झेल तो जाएगा’ , ‘गांठ बांध कर रक्खेगा’ ,
‘प्रतिशोध की ज्वाला’ ‘जब भी भड़केगी’ , ‘मुखर हो जाएगी ‘ ,
‘अगला – पिछला सब हिसाब कर लेगा’ , ‘पसीना छुड़ा देगा तेरा’ |

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…