Home कविताएं देशभक्ति कविता “कानून धूल फाँकता है ,सब कुछ बिकाऊ है यहाँ ” |

“कानून धूल फाँकता है ,सब कुछ बिकाऊ है यहाँ ” |

1 second read
0
0
1,330

जब   लोग   जान -बूझ   कर  आर्थिक  अपराध   करते   हैं ” ,

 “देश   में   इसके   लिए ” ,” प्रथक   दंडात्मक   व्यवस्था ”  है  ,

 “पर  कानून  धूल  फाँकता  है “, “सब  कुछ  बिकाऊ  है  यहाँ “, 

 “हाथ-पैर तोड़ने जैसी सख्त व्यवस्था की” “देश को जरूरत है” |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…