Home जीवन शैली कर्म-अकर्म

कर्म-अकर्म

0 second read
0
0
1,275

‘बात  तो  आप  परमार्थ  की  करते  हो ‘, ‘सोचते ‘  ‘अपने   स्वार्थ   की   हो ‘,

‘दूसरों  को  उपदेश  बहुत  देते  हो ‘,  ‘अपने  ऊपर   यह  नियम  लागू  नहीं’ ,

‘चोरी  करना   गलत   बात   है   कह   कर’, ‘चोरों   की   मुहिम   छेड़ते    हो ‘,

‘खुद   चोरी   करते   हो ‘ फिर , ‘हेरा-फेरी   करके’ ‘जेल  जाने’  से   बचते   हो , 

‘गजब  चरित्र  है  तेरा’  ‘सारे  कुकर्म  करके  भी’ ‘ महामंडित  बने  रहते   हो ‘,

‘ऐ   खुदा ‘ ! ‘ कुछ   भी   करो ‘  ‘ हमारे   देश   को ‘ ‘इन   गद्दारों   से   बचाओ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In जीवन शैली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…