आरक्षण की आग —

0 second read
0
0
1,209

‘लूटपाट’  ,  ‘आगजनी’  , ने   ‘सपने   जलते  देखे  हैं ‘,

‘वोट  बैंक  ने’  ‘कैसा  अराजकता  का  तांडव   कराया ‘ ,

‘आरक्षण  की   आग’  ने  ‘सब   कुछ   राख  कर  डाला ‘   ,

‘कई  परिवार’ , ‘आरक्षण  की  आँधी’  में ‘ तबाह  हो  गए ‘,

‘कैसे  घर  के  मालिक  हो’,’अपने घर  मे  आग  लगा  डाली ,

जिस  डाली   पर  बैठा  था  , उसी   को  काट   डाला  है  तूने’ ,

‘करना- धरना  कुछ   नहीं ‘,’ बस  फिरी  के  गोलगप्पे  चाहिए’ ,

‘बहुत  जख्म  मिल  चुके’,’आरक्षण  को ”अलबिदा  कहो  अब तो ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…