Home सुविचार ‘आगे होने का घमंड’ और ‘पीछे रहने का गम’ मत करो !

‘आगे होने का घमंड’ और ‘पीछे रहने का गम’ मत करो !

0 second read
0
0
1,420

*? बहुत ही अच्छी और सच्ची बात* ✍??

परेड में *पीछे मुड़* बोलते ही
*पहला आदमी, आखरी*
और
*आखरी आदमी, पहले*
नंबर पर आ जाता है।
जीवन में कभी
*आगे होने का घमंड*
और
*आखिरी होने का गम*
न करे,
पता नहीं कब जिंदगी बोल दे
” *पीछे मुड़* ”

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In सुविचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…