Home जीवन शैली आँसू तो पूंछ किसी के

आँसू तो पूंछ किसी के

0 second read
0
0
1,224

‘अपने    जीवन    के    लम्हों ‘   को   ‘ संवार    ले , ज़रा    संभल ‘ ,

‘बैर’,  ईर्ष्या ‘, ‘नफरत’, और   ‘हिंसा’   में   ‘व्यर्थ  फंसा   बैठा   है’ ,

‘एक-दूसरे  के  काम आ’,’गिरते  को  उठा’,’आँसू  पोंछ  किसी  के’ ,

‘मुस्कराता   चल ‘, ‘ जीवन   का    कल्याण  ‘   हो    ही    जाएगा  |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In जीवन शैली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…