Home कविताएं देशभक्ति कविता अश्लीलता का ज़ोर है सामाजिक मूल्य धराशायी हो गए हैं आजकल

अश्लीलता का ज़ोर है सामाजिक मूल्य धराशायी हो गए हैं आजकल

1 second read
0
0
1,352

अश्लीलता का ज़ोर है’ ,’ सामाजिक मूल्य’ ‘धराशायी हो गए हैं आजकल’ ,
‘भाई-चारा’’,कुप्रभावों से अछूता नहीं’ ,’मानवता’ ‘कलंकित हो रही है हर घड़ी ’ ,
‘पथ-भ्रष्ट होता’ ‘ किशोर मन’ ‘वासनाओं में घसीटा ‘ जा रहा है – ‘क्या करें’ ?
‘भटकाव’ ‘बना पारदर्शी’ ‘आजकल देश का भूगोल’ ‘बदला जा रहा है’ रात दिन’ |

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…