Home कविताएं उदासी की कविताएँ अपराध भाव क्यों ?

अपराध भाव क्यों ?

0 second read
0
0
1,364

‘बचपन   से   ही    हमारे    दिलो- दिमाग   मे ‘,” सही   क्या  है  गलत   क्या  है’ ?

‘यह    भावना ‘   ‘ समाज    द्वारा    अपराध    रूप    मे’   ‘ बैठा    दी   जा ती   है’ ,

‘किसी   कार्य   को   करने   की   कल्पना ‘ , ‘फिर   परिणाम   उचित  न  मिलना’ ,

 ‘अपेक्षाओं     पर     पूरा   न  उतरना ‘,  ‘अपराध   भाव   मे   ले   जाता   है   हमें ‘

 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In उदासी की कविताएँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…