Home कविताएं धार्मिक कविताएँ अगर तुझ खुद पर भरोसा है

अगर तुझ खुद पर भरोसा है

0 second read
0
0
1,233

‘अगर तुझे खुद पर भरोसा है ‘ , ‘कामयाब समझ खुद को’ ,

आनन्द के एहसास से सरोबर रहो’ , ‘नम्र रहो ‘,’शांत रहो’ ,

‘दुःखी तो हर प्राणी है ‘,’ दुःख छुपा कर मुस्कराता हर जगह ‘,

‘सत्संग की विधा बड़ी विचित्र है ‘, ‘आज़मा कर देख तो सही’ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In धार्मिक कविताएँ

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…