Home कविताएं प्रेरणादायक कविता ‘अकेला हूँ या महफिल में’ ,’हर जगह मुस्कराता हूँ ‘ !

‘अकेला हूँ या महफिल में’ ,’हर जगह मुस्कराता हूँ ‘ !

0 second read
0
0
1,221

‘जिंदगी  में  तजुर्बा  करते   करते ‘, ‘बुढ़ापा   आ  गया ‘ ,

‘फेरेब  का  रंग  नहीं  चढ़ा  मुझ  पर’ ,’अज़ब  है दास्तां ‘,

‘अकेला  रहूँ  या  महफिल  में ‘,’हर  जगह  मुस्कराता  हूँ’ ,

‘इससे  अच्छा  क्या  है  जमाने  में  खुदा ‘ !’ तू  ही  बता ‘ ?

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In प्रेरणादायक कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…