Home कोट्स Spirituality Quotes कान्हा का ध्यान और कर्मा बन कर जीना

कान्हा का ध्यान और कर्मा बन कर जीना

0 second read
0
0
911
[1]

‘मुझे  आवाज  मत  देना   कोई ‘ ,  ‘ कान्हा  की  याद   में  खोई   हुई   हूँ   मैं ‘,

‘मन  में’  , ‘तन  में ‘ , ‘ध्यान  में’ , ‘ज्ञान  में’, ‘सिर्फ  कान्हा  दिखता है  मुझे ‘  |

]2]

‘जीवन  में ‘ विवाद  और  टकराव ‘ की ‘ राजनीति  को   गिराओ ‘ ,

‘चरित्र  सरल  होगा  यदि ‘ ‘ सत्संग  और  धर्म -आचरण   होगा ‘ ,

‘परोपकार’ , ‘अहिंसा’,’जियो  और जीने  दो ‘ का ‘सिद्धांत  अपनाओ ‘,

‘कर्मा  बन  कर  जियो ‘, ‘अकर्मा  नहीं ‘, ‘ सब  द्वार  खुल  जाएंगे  तेरे ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Spirituality Quotes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…