0 second read
0
0
987

“व्यस्त जीवन ” से “समय” बचाओ , “बच्चों ” का अनिवार्य “सामान्य जीवन ” बढ़ाओ , उनकी ” जिज्ञासा ” को जगाओ , “उन्नत संस्कार” बढ़ाओ , उनकी ” रूचि” के अनुसार काम करने की ” स्वतन्त्रता” दो | एक दिन वो पूर्ण “स्वावलम्बी” बन कर देश का “भविष्य” बन जाएंगे |

 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…