Home ज़रा सोचो ज़रा सोचो —

ज़रा सोचो —

2 second read
0
0
1,219

जरा  सोचो

1  पाँच  रुपये  वाली  बियर   की  बोतल  80  रुपये  की  हो  गयी ,  किसी  ने  कभी  दारू   का  ठेका  नहीं  फूंका  |

2  एक  रुपये  वाली  कोककोला  12  रुपये  की  हो  गयी ,  कभी  अमेरिका  का  पुतला  नहीं  फूंका ,  कभी  कोई  आवाज़  नहीं उठी |

3   5  रुपये वाला  मैक डोनाल्ड  बर्गर  80  रुपये  का  हो  गया ,  इस  बात  पर  किसी  ने  रेल  नहीं  रोकी  |

4   5  रुपये  वाला  चिप्स  पैकेट  30  रुपये  का  हो  गया ,  किसी  जगह  हा-हल्ला   सुनने  में   नहीं  आया  |

5   5  रुपये  वाला  सिनेमा  टिकिट  300  रुपये  का  हो  गया , कभी  किसी  ने  कोई  सिनेमा  हाल   नहीं  फूंका  |

6   चीनी  2/4  रुपये  तेज़   हो  गयी  तो  यह  ब्रेकिंग –न्यूज़   बन  गयी |

7   10  रुपये  का  रेल  टिकेट  अगर  12  रुपये  हो  गया  तो  सभी  छाती  पीटने  लगे  जो  रेल  टिकिट  शायद  महीने  में  एक  या  दो  बार  खरीदना  पड़ता  होगा  |  जो  रेलवे  की  कमाई  होती  है  वह  आपकी  सुविधाओं  के  लिए  सरकार  खर्च  करती  है |

अक्सर   नेता  जनता  की  भलाई  की  नहीं  सोचते ,  सिर्फ अपनी  पार्टी और खुद  को  चमकाने  का  प्रयास  भर   करते  हैं और  इसे  देश-भक्ति  का  नाम  देते  हैं |  जो  भी  सरकार  स्थापित  होती  है उसके  हर  काम  में  रोड़ा  अटकाना अपना  धर्म  मान   कर  चलते  है |

देश  अब  धीरे-धीरे  पटरी  पर  आने  लगा  है , सभी  सुविधाएं  मुहय्या   करने  का  प्रयास  ज़ारी  है |  थोड़ा  सब्र  करने  की  ज़रूरत  है  | अच्छे  दिन  भी  आएंगे |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…