Home Uncategorized ‘हिम्मत’ ही इंसान की कुव्वत हो तो सफलता मिलती है ‘ |

‘हिम्मत’ ही इंसान की कुव्वत हो तो सफलता मिलती है ‘ |

0 second read
0
0
249

[1]

जरा सोचो
‘ मन मंदिर’ अशुद्ध रखते हो, ‘मंदिर’ में खूब चढ़ाते हो,
‘तमन्ना’ पूरी नहीं होगी, चाहे जितना जोर लगा लेना’ !

[2]

जरा सोचो
‘ अपनेपन का एहसास’, ‘अपनापन’ लिए रहता है हर जगह ,
‘न अपना न पराया, न जात न जज्बात’, सिर्फ ‘प्यार’ पलता है’ !

[3]

जरा सोचो
‘कितना भी ‘फैशन में उड़’, कितना भी ‘जादू बिखेर’,
‘कोई असर नहीं होगा,सिर ‘झुका कर’ चलने का ‘आनंद’ समझ’ !

[4]

जरा सोचो
‘साहसी’ की मृत्यु एक बार होती है, ‘भयभीत व्यक्ति’ रोज मरता है,

‘वह खुद को ‘असहाय और लाचार’ समझ, ‘जूझने की हिम्मत’ ही नहीं जुटा पाता’ !

[5]

जरा सोचो
‘चुनौतियों’ को स्वीकार कर ‘जूझने का साहस’ पराक्रमी बना देगा,
जो ‘परेशानियों’ का समाधान करते हैं, उन्हें ‘मौत का भय’ नहीं सताता’ !

[6]

जरा सोचो
मेरे ‘विचारों की मीनार’ बड़ी ऊंची है, आसानी से नहीं ‘गिर’ पाऊंगा,
‘आपका ‘टांग’ फसाने का प्रयास, कभी ‘सफल’ नहीं होगा जनाब’ !

[7]

जरा सोचो
‘बुरे वक्त की तासीर’ में ‘कामयाबी के गुर’ छिपे मिलते हैं,
‘जांबाज’ होने का सबूत देते रहो, ‘सफलता’ चूम ही लेगी तुम्हें’ !

[8]

जरा सोचो
‘हौसला अफजाई’ कोई दवा नहीं_’ पर ‘दवाई’ से कम भी नहीं,
‘ इरादों ‘ को पंख लगा कर ‘कामयाबी के रास्ते’ खोल देते हैं’ !

[9]

जरा सोचो
‘छोटे दिल’ वाले आसानी से किसी की ‘तारीफ’ नहीं करते,
‘अपनेपन’ का ढोंग रचते हैं, ‘सदा ‘खिचखिचाये’ से मिलते हैं’ !

[10]

जरा सोचो
‘न विवादों’ में फसों न ‘शिकवे शिकायत’ करो,
‘विरोध’ करने हेतु ‘चुप रहना’ भी ‘अच्छा विकल्प’ है’ !

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Uncategorized

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘आपस में रूठे’ रहे तो ‘मनाने’ की ‘व्यवस्था खतम’ , ‘मिल कर जियो’ तो जीना है |

[1] जरा सोचो अगर  आपस  में ‘रूठे’  रहे, ‘मनाने’  की  व्यवस्था  खत्…