Home ज्ञान ‘हिन्दू धर्म में कार्तिक मास की महत्ता ” !

‘हिन्दू धर्म में कार्तिक मास की महत्ता ” !

4 second read
0
0
906

*हिंदु   धर्म   में   कार्तिक   मास   की   महत्ता*

*14  अक्टूबर  2019  से  साल  का  सबसे  पवित्र  महीना  कार्तिक  माह  शुरू  होने  जा  रहा  है *
🚩 कार्तिक  महीना  त्योहारों  और  दान-पुण्य  का  महीना  माना  जाता  है ।
🚩कार्तिक  महीने  की  शुरूआत  13 अक्टूबर  हो  रही  है  जो  12 नवंबर  को  समाप्त  होगी ।
🚩इस  महीने  में  कई  धार्मिक  अनुष्ठान  और  कार्यक्रम  होंगे ।  इस  महीने  में  खासतौर  पर  तुलसी  और  शालिग्राम 

की  विशेष  पूजा  और  आराधना  की  जाएगी ।
🚩यह  महीना  त्योहारों  का  महीना  भी  होगा ।  इस  महीने  में  व्रत , स्नान  और  दान  करने  से  तमाम  तरह  के  पापों  से                   मुक्ति  मिल  जाती  है  ।
🚩कार्तिक  माह  को  बहुत  ही  पवित्र  माना  जाता  है ।  कार्तिक  माह  में  पूजा  तथा  व्रत  से  ही  तीर्थयात्रा  के  बराबर  शुभ                    फलों  की  प्राप्ति  हो  जाती  है ।

*खास  है  कार्तिक  महीना *🚩

🚩भगवान  शिव  के  पुत्र  कार्तिकेय  ने  इसी  महीने  में  तारकासुर   राक्षस  का  वध  किया  था  इस  कारण  से   इस  महीने                        का  नाम  कार्तिक  पड़ा ।
🚩कार्तिक  माह  में  भगवान  कार्तिकेय  और  तुलसी  की  भी  विशेष  पूजा  की  जाती  है ।  साथ  ही  इसी  महीने  तुलसी  विवाह                 भी  होता  है ।
🚩कार्तिक  महीने  में  विवाहित  महिलाएं  करवा  चौथ  का  व्रत  रखेंगी ।  जिसमें  महिलाएं  अपनी  पति  की  लंबी  आयु  के  लिए             व्रत   रखेंगी  ।
🚩कार्तिक  माह  बहुत  ही  पवित्र  माना  जाता  है .  भारत  के  सभी  तीर्थों  के  समान  पुण्य  फलों  की  प्राप्ति  एक  इस  माह  में             मिलती  है .  इस  माह  में  की  पूजा  तथा  व्रत  से  ही  तीर्थयात्रा  के  बराबर  शुभ  फलों  की  प्राप्ति  हो  जाती  है  |
🚩इसके  अलावा  इसी  महीने  दीपावली , धनतेरस ,  रमा  एकादशी  और  आंवला  नवमी  जैसे  बड़े  त्योहार  होंगे ।

*आइए  जानते  हैं  कार्तिक  महीने  में  कौन-कौन  से  बड़े  व्रत – त्योहार  होंगे *

13 अक्तूबर – आश्विन पूर्णिमा, शरद पूर्णिमा, वाल्मीकि जयंती
14 अक्तूबर – कार्तिक माह आरम्भ

17 अक्तूबर – करवा चौथ व्रत
21 अक्तूबर – अहोई अष्टमी व्रत, राधाष्टमी

24 अक्टूबर – रमा एकादशी व्रत
25 अक्टूबर – प्रदोष व्रत, गोवत्स द्वादशी, धनतेरस, यम दीपम

26 अक्टूबर – नरक चतुर्दशी, हनुमान जन्म लग्न पूजा
27 अक्टूबर – दीपावली, लक्ष्मी पूजा, दर्श अमावस्या

28 अक्टूबर – कार्तिक अमावस्या
29 अक्टूबर – भैया दूज, यम द्वितीया, चित्रगुप्त पूजा

31 अक्टूबर- सूर्यषष्ठी (डाला छठ) व्रत आरंभ, नहाय खाय, नाग चतुर्थी
05 नवंबर- अक्षय आंवला नवमी

08 नवंबर- तुलसी विवाह, देवप्रबोधनी एकादशी
12 नवंबर- कार्तिक पूर्णिमा, गुरुनानक जयंती
*आइये  इस  दिव्य  और  पवित्र  मास  का  आदर  पूर्वक  स्वागत  करें ।*

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज्ञान

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…