Home ज़रा सोचो “हमारे देश में हर घटिया सोच को प्रयोग में लाते हैं हम ‘ जरा सोचें |

“हमारे देश में हर घटिया सोच को प्रयोग में लाते हैं हम ‘ जरा सोचें |

0 second read
0
0
1,291

[1]

जनता  और  विपक्ष  से  अनुरोध 
‘दुनियां  के  बदलने  के  इतिहास  को , कभी  भुलाया  नहीं  जा  सकता,
‘भारत की अग्रणी भूमिका  को  भी , हाशिए  पर  नहीं  डाला  जा  सकता,
ं’सरकार  को  कुछ  और  उत्तम  कार्य  करने  का  अवसर, सुलभ  कराने  चाहिये,
‘तार्किक  आलोचना ‘ करते  रहो , ‘ सहयोग  की  ‘ भावना ‘ का  भी  प्रदर्शन  करो’ !
[2]
हमारे  देश  में( दौलत  की  बर्बादी)
‘शादी  पर, मेहनत  से  कमाया  पैसा, पानी  की  तरह  बहाता  है  हर  कोई,
‘तैयारी, शॉपिंग, संगीत चकाचौंध, गाना बजाना, शानदार भोजन, सोना चांदी,
‘लाखों  के  बिल  समेटे  मां-बाप ,’इनकम  टैक्स  विभाग’ बेखबर  सोया  हुआ,
‘सरकार  चुप  क्यों  है ? ‘अरबों  का  घोटाला’ नजर  क्यों  नहीं  आता  उन्हें ?
‘दोनों  पक्ष , चोर  चोर  मौसेरे  भाई  हैं , ‘ बिल’ नाम  की  चीज  नहीं  मिलती,
‘ज्यादातर  देशवासी , ‘गंदी  गंगा  में  नहा  कर ,पवित्र  समझ  कर  घूमते  हैं ‘ !
[3]
हमारे  देश  में
‘अब  ‘ धर्म  निरपेक्षता ‘  के  नाम  पर , राजनैतिक  पाखंड  दरकिनार  है,
‘तालीम, तरक्की, सुरक्षा , के  तहत  कार्यक्रम, योजनाएं  रोज  बनती  है,
‘देश में शांति,सौहार्द  का  माहौळ  बने, हर  किसी  की  उन्नति  होती  रहे,
‘रोजगार,सड़क,बिजली,पानी, गैस सुविधाएं, हर  इंसान  को  मिलती  रहे,
‘गरीबी  हटाओ,’सबका  साथ  सबका  विकास’ की  नीति  देश में सुनिश्चित  है,
‘सही  योजनाएं , ईमानदार  संकल्प , तेजी  से  जमीनी  सच्चाई  बन  रही  है’ !
[4]
हमारे  देश  में
‘यदि  आप  सकारात्मक  सोच , आत्मविश्वास  व  धैर्यवान, व्यक्तित्व  वाले हैं,
‘आप  ऐसे  रास्ते  का  चयन  करें,जो’सही  दिशा  में’ सही मुकाम  पर  पहुंचा दे,
‘देश  में  सफल  व्यक्तियों  की  लंबी  लिस्ट  है , जो  आज  उंचे  मुकाम  पर  हैं,
‘खुद  से  प्रश्न  करो , खुद  उत्तर  तलासो , सब  कुछ  मिलेगा  , ढूंढो  तो  सही ‘ !
[5]
हमारे देश में
‘अनेकों  दुष्ट’ रूप  बदल  कर ,समाज  को  तोड़ने  का  काम  करते  हैं ,
‘ऐसे दुष्टों  से सावधान  रहने  की जरूरत  है, कब पलटी  मार जाए  वो,
‘देश में  नेताओं ने’  भड़काऊ  बयान  जारी  करके, हिंसक  माहौल  बनाया  है,
‘अपनी  विफलताओं  पर  पर्दा  डालने  हेतु ,जनता  को बांटने पर  आमादा  हैं ‘ !
Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…