Home विशेष हमारे देश के प्रधान मंत्री ने देश-हित में क्या किया ? जानिये :-

हमारे देश के प्रधान मंत्री ने देश-हित में क्या किया ? जानिये :-

20 second read
0
0
1,097

:-

1काला-धन —काले धन की समस्या  एक झटके  में  समाप्त  हुई | कोई छापा  नहीं मारना पड़ा | कोई पूछ-ताछ  नहीं हुई |

2सोने का आयात कम :- भारत विश्व में सोने का सबसे बड़ा  आयातक  है | लोग काले धन को छिपाने  हेतु सोना खरीदते  थे | वह उद्देश्य खत्म हुआ | सोने का आयात  घटेगा तो कुल-आयात  बिल कम हो जाएगा |

3रुपये की कीमत में उछाल :- आयात कम होने से विदेशी  मुद्रा के विनियोग में रुपये की कीमत में जबर्दस्त  उछाल  आएगा |

4सस्ते घर :– काला धन छुपने का दूसरा ठिकाना –ज़मीन-जायदाद  थी | अब लोग अपने रहने के लिए ही घर खरीदेंगे | अब सभी को कम कीमत पर घर  उपलब्ध  होंगे |

5काला बाजारी और जमा खोरी  पर रोक :- जमा-खोरी के लिए काला-धन प्रयोग में आता था | काला-धन नहीं तो काला-बाजारी व जमाखोरी समाप्त समझो |

6स्वच्छ –धन की कीमत में बढ़ोतरी :- काले-धन की कमी से खरीदने की छमता  घटेगी | और स्वच्छ-धन वालों की खरीद छमता  बढ़ जाएगी |

7मंहगाई  में भारी कमी :- सस्ता  सोना , सस्ता घर , मजबूत रुपया और काले-धन से खरीद की छमता  घटने से मंहगाई  स्वम घटती जाएगी |

8 आयात की जाने वाली वस्तुएँ व  पट्रोल , गॅस  सस्ते होंगे | बाज़ार में सभी माल भरपूर  उपलब्ध  होंगे |

9 नकली नोटों की समस्या से निजात :- नकली नोटों के शिकार ज़्यादातर  गरीब होते थे | सभी लोग सब्जीवाले, रिक्शा वाले, पटरीवाले , पान वाले , छोटे दुकानदार को नकली नोट  का शिकार  बनाते थे | अब इन नोटों को न जनता लेगी और न बैंक |

10 आतंकी नेटवर्क  का सफाया :- आतंक का सारा खेल खत्म | देश की अर्थ-व्यवस्था  को बर्बाद करने  के लिए पड़ौस   से नकली नोटों की खेप आती  थी

जो आतंकियों में बंटती  थी |अब इस महाजाल का अंत  हो गया , हथियारों का जखीरा आना बंद हो जाएगा |

11हवाला कारोबार का दिवाला :- खरबों  रुपये रोज़ इधर से उधर होते थे | सारा  मामला चौपट हो गया | न नकली नोट और न हवाला स्थांतरण |

12 सट्टा  बाज़ार का बैठा भट्टा :- करोड़ों रुपये का सट्टा-बाज़ार ठप्प | पुराने नोट खत्म , नए नोट चलन में | हार-जीत के जुए पर रोक लगी |

13 बिल से व्यापार :- जब काला धन नहीं होगा तो माल बिल से बिकेगा  और खरीदार  टैक्स  चुका कर ही समान  खरीदेगा |

14 रिस्वत-खोरी पर अंकुश :- पुराने नोट बंद होना रिस्वत-खोरों पर अज़ाब की तरह टूटा | काम करने के लिए अब रिस्वत मांगने पर रुकावट लगेगी |

15 अधिक टैक्स  एकत्रीकरण :- अधिक टैक्स  आएगा  जो रक्षा  व विकास  पर   लगेगा | मंहगाई कम होने से सबसिडी  का बोझ कम होगा | सारा धन देश के विकास और युवा-शक्ति  के उत्थान  पर लगेगा |

16 स्वस्थ  चुनाव :– काले-धन की अनुपलब्धता  से चुनाओं में बेतहाशा खर्च  में कमी आएगी | शराब और नशा  कम बिकेगा | स्वस्थ  चुनाव  से अच्छे  उम्मीदवारों  के जीतने  की संभावना  बढ़ेगी |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In विशेष

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…