Home कोट्स Motivational Quotes “हमारे जीवन के कुछ पलों को छंदों में पिरोया है “

“हमारे जीवन के कुछ पलों को छंदों में पिरोया है “

0 second read
0
0
1,055

[1]

‘जब  मेरे  इरादे  नेक  हैं  फिर’ ,
‘खिलाफत  किसलिए ‘?
‘अपने  घर  का  चिराग  समझ ‘,
‘बुझाने  की  कोशिश  न  कर ‘|

[2]

‘सतही  रिस्तों  को  तलासना  है ‘,
तो  गहराई  में  उतरना  सीख ‘,
‘सच्चे  मोती’ सीपी  में  छिपे  रहते  हैं’ ,
‘किनारों  से  किनारा  कर ‘|

[3]

‘जिन्हें   मैं  गैर  समझता  था’ ,’उन्होने  अपना  बना  डाला  मुझे ‘,
‘गजब  तब  हुआ  ‘जिन्हें  अपना  समझता  था’,गैर  ही  निकले’|

[4]  

‘ दिल  में  उतरने  की  कला  जानता  हूँ’,
‘जरा  संभल  जाना ,’
‘जितना  कतराओगे  मुझसे ‘,
‘उतने  ही  टकराए  जाएंगे ‘|

[5]

 ‘कोई  कितने  भी  जख्म  दे ‘,
‘मैं  उन्हें  जख्म  मानता  ही  नहीं’ ,
‘अपने  ही  जख्म  देते  हैं’ ,
‘पलटवार  उसे  अपना  बनने  नहीं  देगा ‘|

[6]  

‘प्यार  कर  गया  या  प्यार  दे  गया’,’कुछ  भी  समझ  में  नहीं  आता’,
‘एक  टकटकी  लगाए  रहते  हैं”शायद  फिर  मुलाक़ात  हो जाए उनसे’ |

[7]

‘सब्र  का  बांध  हमें   बिखरने   नहीं  देता ‘,
‘सच्चाई’ किसी  की  नज़रों  से  गिरने  नहीं  देती ‘|

[8]

‘तुम  हमें  कुछ  लिखते  रहो  ‘,’ मैं   भी  कहता  रहूँ  तुमको  ,’
‘न  मिलें  तब  भी  बुदबुदाहट  तो  चलती  ही  रहनी  चाहिए ‘|

[9]

मेरे  मन  का  भाव  :-

‘मैं  खाली  हाथ  आया  था’,’सबको  खुश  करके  ही  जाऊंगा’, 
‘हमदर्दी  और  स्नेह  का  सागर  लुटाना  नहीं  भूलूँगा  कभी ‘|

[10]

‘हमारे  सामने  दूसरों  की  बुराई  करने  में’ ,
‘किंचित  भी  नहीं  डरते’, 
‘हमारी  तारीफ  क्या  खाक  करोगे’ ,
‘तुम  तो  बुराई  का  मुखौटा  हो ‘|

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Motivational Quotes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…