Home कविताएं हमारा विविधता वाला देश है

हमारा विविधता वाला देश है

0 second read
0
0
820

“हमारा विविधता वाला देश है’ ‘,सौहार्द’ ‘ हमारी शक्ति है’ ,
‘जुड़ाव का भाव गया ‘ तो ‘समझो विकास रूक गया ‘ ,
‘एक दूसरों की’ ‘परम्पराओं और नज़रिये ‘का ‘सम्मान करना सीखो’ ,
‘सैकड़ो भाषा’ ‘,धर्म वाला भारत’ ‘,शांति से रह सकता है’,’दिखाओ’

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In कविताएं

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…