हमारा देश

0 second read
0
0
1,220

{ 1 } ‘अनेकों    उलझनें’     ‘अपने    देश    को ‘   ‘ उलझाए    जाती    हों   जहां ‘  ,

‘करोड़ों    लोग   आशा    लिए ‘  , ‘ कुछ    अच्छे     की ‘  ‘ उम्मीद   मे   जीते   हो’ ,

‘कुछ      काफिर’ –  ‘ लूट     को     ही’  ‘ अपना     ईमान    मानते     हों     जहां ‘  ,

‘जहां     अक्सर      कानून      भी’    ‘गुंडों    की’   ‘ हाँ    मे    हाँ     मिलाता    हो’ ,

‘जहां     कर्णधार     ही ‘   ‘ दुल्हन     की     पालकी ‘   ‘ लूटने    मे     लगे     हों ‘ ,

‘या     खुदा ‘   !   तू      ही    अता     कर ‘  ,   ‘उनकी     कोई       दवा    हमको ‘ |

 

[ 2 ] ‘ कानून    को   ऐसे    घुमाओ ‘ ,  ‘कानून   ही’  ‘ खुद   कानूनी   नुक्ते’   ‘निकलता   फिरे’  ,

‘ये    है   हमारे    देश    वासियों    का    नुक्ता ‘ ,  ‘ कानून    बंगले     झाँकता   है   हर    जगह  ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…