Home सुविचार हँसना जरूरी है परंतु ?

हँसना जरूरी है परंतु ?

0 second read
0
0
1,225

{1}

“आज  गला  फाड़  कर  हँसना “,” बेहूदगी   में   शुमार  होता  है “,

“काश ”  !  ” गुज़रा   हुआ   ज़माना   फिर   से   लौटा   दे   कोई ” |

{2}

“एक  ज़माना  था ”  “हम   बेतकुल्लफ़ी   से   बेहिसाब   हँसते  थे ” ,

“अब  जमाने   में   हंसने   के   लिए  भी ” “तहज़ीब ”  होनी  चाहिए  |

{3}

“सदा  ध्यान  रखना “, ” दिल  से  चाहने  वाले’  ‘बमुस्किल  से  मिलते  हैं’  ,

‘मौका  हाथ   से   निकला ‘, ‘पछताने   के  सिवाय  कुछ  हाथ  नहीं  लगता ” |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In सुविचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…