Home जीवन शैली स्वस्थ रहने के 15 नियम पालन कीजिये , स्वस्थ रहिए , महाऋषि वामवट जी के सौजन्य से

स्वस्थ रहने के 15 नियम पालन कीजिये , स्वस्थ रहिए , महाऋषि वामवट जी के सौजन्य से

2 second read
0
2
3,923

हमारे  वेदों  के  अनुसार  स्वस्थ  रहने  के  १५  नियम  हैं…!!

१ – खाना  खाने  के  १.३०  घंटे  बाद  ही  पानी  पीना  चाहिए !

२ – पानी  घूँट  घूँट  करके  पीना  है ! जिससे  अपनी  मुँह  की  लार  पानी  के  साथ  मिलकर  पेट  में  जा  सके | पेट  में  Acid  बनता  है     और  मुँह  में  छार  दोनो  पेट  में  बराबर  मिल  जाए  तो  कोई  रोग  पास  नहीं  आएगा !

३ – पानी  कभी  भी  ठंडा  ( फ़्रिज़  का )  नहीं  पीना  है !

४ – सुबह  उठते  ही  बिना  क़ुल्ला  किए  २ ग्लास  पानी  पीना  चाहिए ! रात  भर  जो  अपने  मुँह  में  लार  है ! वो  अमूल्य  है !  उसको        पेट  में  ही  जाना  ही  चाहिए !

५ – खाना  जितने  आपके  मुँह  में  दाँत  है ! उतनी  बार  ही  चबाना  है !

६ – खाना  ज़मीन  में  पलोथी  मुद्रा  में  बैठकर  या  उखड़ूँ  बैठकर  ही  खाना  चाहिए !

७ – खाने  के  मेन्यू  में  एक  दूसरे  के  विरोधी  भोजन  एक  साथ  ना  करे  जैसे  दूध  के  साथ  दही , प्याज़  के  साथ  दूध , दही  के  साथ  उड़द की  दlल !

८ – समुद्री  नमक  की  जगह  सेंधा  नमक  या  काला  नमक  खाना  चाहिए !

९ – रीफ़ाइन  तेल  डालडा  ज़हर  है ! इसकी  जगह  अपने  इलाक़े  के  अनुसार  सरसों  तिल  मूँगफली  या  नारियल  का  तेल  उपयोग  में  लाए ! सोयाबीन  के  कोई  भी  प्रोडक्ट  खाने  में  ना  ले  इसके  प्रोडक्ट  को  केवल  सुअर  पचा  सकते  है !  आदमी  में  इसके  पचाने  के एंज़िम  नहीं  बनते  हैं !

१० – दोपहर  के  भोजन  के  बाद  कम  से  कम  ३० मिनट  आराम  करना  चाहिए  और  शाम  के  भोजन  बाद  ५००  क़दम  पैदल  चलना चाहिए !

११ – घर  में  चीनी  (शुगर)  का  उपयोग  नहीं  होना  चाहिए  क्योंकि  चीनी  को  सफ़ेद  करने  में  १७  तरह  के  ज़हर  ( केमिकल  )  मिलाने पड़ते  है  !  इसकी  जगह  गुड़  का  उपयोग  करना  चाहिए  और  आज  कल  गुड़  बनाने  में  कॉस्टिक  सोडा  ( ज़हर )  मिलाकर  गुड  को सफ़ेद  किया  जाता  है ! इसलिए  सफ़ेद  गुड़  ना  खाए ! प्राकृतिक  गुड़  ही  खाये ! प्राकृतिक  गुड़  चाकलेट  कलर  का  होता  है !

१२ – सोते  समय  आपका  सिर  पूर्व  या  दक्षिण  की  तरफ़  होना  चाहिए !

१३ – घर  में  कोई  भी  अलूमिनियम  के  बर्तन  या  कुकर  नहीं  होना  चाहिए ! हमारे  बर्तन  मिट्टी  पीतल  लोहा  और  काँसा  के  होने चाहिए !

१४ – दोपहर  का  भोजन  ११  बजे  तक  अवश्य  और  शाम  का  भोजन  सूर्यास्त  तक  हो  जाना  चाहिए !

१५ – सुबह  भोर  के  समय  तक  आपको  देशी  गाय  के  दूध  से  बनी  छाछ  (सेंधा  नमक  और  ज़ीरा  बिना  भुना  हुआ  मिलाकर )  पीना चाहिए !

यदि  आपने  ये  नियम  अपने  जीवन  में  लागू  कर  लिए  तो  आपको  डॉक्टर  के  पास  जाने  की  ज़रूरत  नहीं  पड़ेगी  और  देश  के            ८  लाख  करोड़  की  बचत  होगी ! यदि  आप  बीमार  है ! तो  ये  नियमों  का  पालन  करने  से  आपके  शरीर  के  सभी  रोग  ( BP , शुगर  ) अगले  ३  माह  से  लेकर  १२  माह  में  ख़त्म  हो  जाएँगे !

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In जीवन शैली

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…