स्वच्छता

0 second read
0
0
478

‘हमें   साफ – सफाई    करने   मे    शर्म   नहीं’   , ‘ गर्व   महसूस   करना   चाहिए ‘ ,

‘स्वच्छता ‘–‘  प्रत्येक     प्राणी      की’   ‘ दिनचर्या     से     जुड़ी      ज़रूरत      है ‘  ,

      ‘स्वच्छ   महोल   मे   रहने   से’ , ‘व्यक्ति  तनाव -मुक्त’   व  ‘ स्वावलंबी ‘  रहता   है  ,

      ‘स्वच्छता’ – ‘बीमारियों   से    बचाव ‘  की   ‘प्रक्रिया  है’ , ‘आदत   मे  शामिल  करो ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In सेहत

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘जीवन के मूल्यों पर कुछ टिप्पणी जो सभी से मिलती हैं ” |

[1] ‘हमारी  काया  मिट्टी  की  और  महल-मीनारों  की  बात  करते  हैं ‘, ‘सा…