Home ज़रा सोचो ‘स्त्री का स्वरूप , उसके सत्कर्म , गुण-धर्म और महत्ता ” समझिए !” एक प्रेरणा का श्रोत “|

‘स्त्री का स्वरूप , उसके सत्कर्म , गुण-धर्म और महत्ता ” समझिए !” एक प्रेरणा का श्रोत “|

4 second read
0
0
833

{  एक  हमारे  अभिन्न   मित्र   जी   के   सौजन्य  से  }

जय  माता   दी   जय   माता   दी   जय   माता   दी   जय   माता   दी   जय   माता   दी   जय   माता   दी   जय   माता   दी                           जय   माता   दी  ।
स्त्री   क्या   है  ?
जब   भगवान   स्त्री   की   रचना   कर   रहे   थे ,  तब   उन्हें   काफी   समय   लग   गया  ।   आज   छठा   दिन   था   और   स्त्री                   की   रचना   अभी   भी   अधूरी   थी  ।  इसलिए   देवदूत   ने   पूछा ”  भगवन्  ,  आप   इसमें   इतना   समय  क्यों  ले  रहे  हो “?
भगवान  ने  जवाब  दिया  , ” क्या  तूने   इसके  सारे   गुणधर्म   (specifications)   देखे   हैं  , जो   इसकी  रचना   के   लिए                    जरूरी   हैं ” ?
१. यह   हर   प्रकार   की   परिस्थितियों   को   संभाल   सकती   है  ।
२. यह   एक   साथ   अपने   सभी   बच्चों   को   संभाल   सकती   है   एवं   खुश   रख   सकती   है  ।
३. यह   अपने   प्यार   से   घुटनों   की   खरोंच   से   लेकर   टूटे   हुये   दिल   के   घाव   भी   भर   सकती   है  ।
४. यह   सब   सिर्फ   अपने   दो   हाथों   से   कर   सकती   है  ।
५. इसमें   सबसे   बड़ा   गुणधर्म   यह   है   कि   बीमार   होने   पर   भी   अपना   ख्याल   खुद   रख   सकती   है   एवं   18   घंटे                 काम   भी   कर   सकती   है  ।


देवदूत   चकित   रह   गया   और   आश्चर्य   से   पूछा  -”  भगवान   क्या   यह   सब   दो   हाथों   से   कर   पाना   संभव   है  “?
भगवान   ने   कहा   ‘यह   स्टैंडर्ड   रचना   है  ।  ( यह  गुणधर्म  सभी  में  है ‘)
देवदूत  ने  नजदीक   जाकर   स्त्री   को   हाथ   लगाया   और   कहा  , ” भगवान   यह   तो   बहुत   नाज़ुक   है ” ।
भगवान   ने   कहा   ‘हाँ   यह   बहुत   ही   नाज़ुक   है  ,   मगर   मैने   इसे   बहुत   ही   स्ट्रांग   बनाया   है  ।   इसमें  हर  परिस्थिति              को   संभालने   की   ताकत   है ‘ ।
देवदूत  ने   पूछा  ‘क्या   यह   सोच   भी   सकती   है ‘ ?
भगवान   ने   कहा  ‘ यह   सोच   भी   सकती   है   और   मजबूत   हो   कर   मुकाबला   भी   कर   सकती   है ‘ ।
देवदूत  ने   नजदीक   जाकर  स्त्री   के   गालों    को   हाथ   लगाया   और   बोला  ,  ” भगवान   ये   तो   गीले   हैं  ,  लगता   है   इसमें               से   लीकेज   हो   रहा   है ‘ ।
भगवान   बोले  ‘ यह   लीकेज   नहीं   है  ,   यह   इसके   आँसू   हैं ‘।
देवदूत: ‘ आँसू   किसलिए ‘ ?
भगवान  बोले  :’ यह   भी   इसकी   ताकत   हैं  ।   आँसू  ,  इसको   फरियाद   करने ,  प्यार  जताने   एवं   अपना   अकेलापन   दूर           करने   का   तरीका   है ‘ ।
देवदूत :’ भगवान  आपकी   रचना   अद्भुत   है  ।   आपने   सब   कुछ   सोच   कर   बनाया   है  ,   आप   महान   हैं ‘।


भगवान  बोले –‘यह   स्त्री   रूपी   रचना   अद्भुत   है  ।  यही   हर   पुरुष   की   ताकत   है  ,   जो   उसे   प्रोत्साहित   करती   है  ।   वह         सभी   को   खुश   देखकर   खुश   रहतीँ   है  ।   हर   परिस्थिति   में   हंसती   रहती   है  ।   उसे   जो   चाहिए   वह   लड़   कर   भी  ले      सकती   है  ।   उसके   प्यार   में   कोइ   शर्त   नहीं   है   ( Her   love   is   unconditional )  ।   उसका   दिल   टूट   जाता   है  जब       अपने   ही    उसे   धोखा   दे   देते   हैं  ।   मगर   हर   परिस्थिति   से   समझौता   करना   भी   ये   जानती   है  ”।
देवदूत:  ” भगवान   आपकी   रचना   संपूर्ण   है ” ।
भगवान   बोले   “ना , अभी   इसमें   एक   त्रुटि   है ” ।
” यह   अपनी   महत्त्ता   भूल   जाती   है “।

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…