Home ज़रा सोचो ‘सोच ‘ और ‘समझ ‘ में अंतर जानिए |

‘सोच ‘ और ‘समझ ‘ में अंतर जानिए |

2 second read
0
0
1,336

 *सोच और समझ में अंतर* 

÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷÷
●एक डॉ.चाहता है कि हर आदमी बीमार हो.!
●वकील चाहता है कि हर आदमी झगड़ालू हो.!
●पुलिस चाहती है कि हर आदमी जुल्मी हो.!
●ठेकेदार चाहता है कि हर आदमी मजदूर हो.!


●दारू का ठेकेदार चाहता है कि हर आदमी शराबी हो.! 


●बैंक चाहता है कि हर आदमी कर्जदार हो.! 


●नेता चाहता है कि हर आदमी भोला-भाला और अनपढ़ हो.!


●पुजारी चाहता है कि हर आदमी अन्धविश्वास में डूबा रहे.! 


●तांत्रिक चाहता है कि हर आदमी भूत-प्रेतों से डरता रहे.! 


*लेकिन* 
एक *शिक्षक* ही है, जो हमेशा चाहता है, कि हर *स्त्री-पुरुष* पढ़ा लिखा हो, और जीवन में *सफलता* प्राप्त करके आगे बढ़े। जिससे वह *स्वयं* का, अपने *परिवार* का, *मानव समाज* का और *देश* का विकास करे। ,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,,
? *आइए, शिक्षक वर्ग का सम्मान करें* ??

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…