Home कोट्स Motivational Quotes “सोचने का नज़रिया बदल कर देखिये जनाब ” !

“सोचने का नज़रिया बदल कर देखिये जनाब ” !

0 second read
0
0
1,113

[1]

‘तू  कल  की  फिक्र  में  रोज़  जलता  है  तो  मर  जाएगा ‘,
‘आज तो  मस्ती  में जी  ले  भाई  कल  भी  संवर जाएगा ‘|

[2]

‘सबके  लब  और आँखें’ ‘हंसी  के खजाने  साबित  होने  चाहिए ‘,
‘दर्दों  की  बेदखली  ही’ ‘जिंदगी  जीने  का  पक्का  सबूत  है ‘|

[3]

‘खुशहाली के लिए झुकने की’ 
‘ताबीर का पालन करो ‘,
‘हारने की हिम्मत बढ़ा’ ,
‘सहने का माद्दा बढ़ा ‘|

[4]

‘इतना मीठा भी मत बोलो कि लोग 
शक करने लगें ‘,
‘इतना कड़ुवा भी मत बोलो’ ,
‘सभी कटने लगें तुमसे ‘|

[5]

‘कौन  कैसे  जीता  है’ ? ‘यह  फलसफा  मत  बना  अपना ‘,
‘सिर्फ  यह  देख  कि तू  कितनी  ज़िंदादिली  से जीता  है ‘|

[6]

“जिस  कागज़  पर  लिखा  था” “मुझे  तुमसे  प्यार  है ‘ “संभाल  रक्खा है ” ,
“जब  गुज़रा  जमाना  याद  आता  है” ,” पन्ना  खोल  कर  देख  लेता  हूँ ” |

[7]

“रोना  हो  तो  घर  में  जी  भर  कर  रो  लेना” ,                                                                                                                                                                    “दरवाजा  मुस्करा  कर  ही  खोलना” ,
“रोता  हुआ  देख  सभी  टूटा  हुआ  समझते  हैं “,                                                                                                                                                                “झटका  देने  में  देर  नहीं  करते ” ?

[8]

“दुनियाँ  की  अनेक  वस्तुओं  को  बेस -कीमती  समझते  हो” ,
“अच्छी नींद” ,”अच्छी सोच”,”शांति की कीमत नहीं समझते” ,
“जो प्रभु के  मुफ्त के  उपहारों को” ” जीवन  में  नहीं  उतारते” ,
“वो केवल नरक भोगते हैं “, “कभी स्वच्छ जीवन नहीं जीते “|

[9]

‘गुजरा जमाना भूलते जाओ’ ,
‘वर्तमान को विश्वास से जियो ‘,
‘बिना भय भविष्य का स्वागत करो’ ,
‘पौबारा हो जाएंगे तेरे ‘|

[10]

‘हम अक्सर शक्की स्वभाव के हैं ‘,
‘किसी पर यकीन करते ही कम हैं ‘,
‘यकीनन ‘विश्वास’ वो धरातल है’ ,
‘जिस पर ‘सत्य’ स्थापित है ‘|

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In Motivational Quotes

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…