Home सुविचार सुविचार —

सुविचार —

0 second read
0
0
1,259

{1}

‘ज़िंदगी ‘  को   ‘समझने  में’  ‘वक्त   न   गुजार’ ‘ ए  बंदे ‘,

‘थोड़ी  जी  ले  ज़रा’ , ‘पूरी  समझ  मे   आ  जाएगी  तेरी ‘ |

{2}

‘ज़ुबान  खराब  होना’ ,’ दिमाग  खराब   होने   की’ ‘पहली  निशानी   है’  ,

‘ज़रा  मीठा  बोलने  लगता  अगर ‘,’ सबका  चहेता  बन  उभर  जाता ‘ |

(3)

‘जब  दर्द  मेरा  है’ ,  ‘किसके  सामने  बयान  करूँ ‘,’ और  क्यों  करूँ ‘ ?

‘जब  सारा  दर्द’  ‘खुद  ही  पीना  है’ , ‘बयां   करके’ ‘ तमाशा  क्यों  बनूँ ‘  ?

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In सुविचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…