Home सुविचार सुविचार

सुविचार

0 second read
0
0
1,409

(1)

‘लफ्ज   ही  होते   हैं’  ‘ इंसान   का   आईना ‘ , ‘शक्ल   का   क्या ‘ ?

‘वी   तो   ‘उम्र ‘ और  ‘ हालात ‘  के  साथ  ‘ अक्सर   बदल   जाती  है ‘  |

(2}

‘सोने  के  सौ   टुकड़े  करो ‘ , ‘कीमत   कम   नहीं   होती   कभी ‘ ,

‘इज्जत  वालों  को  कितना  सताओ’,’ इज्जत  कम  नहीं  होती ‘ |

(3)

‘कुछ  बोलने’  और ‘ तोड़ने   मे’ ‘ केवल   एक   पल   लगता    है ‘ ,

‘जबकि  ‘बनाने ‘ और ‘ मनाने ‘ में , ‘पूरा  जीवन  लग  जाता  है ‘ |

(4)

‘ प्रेम ‘ सदा   ‘माफी   मांगना ‘  ही  ‘ पसंद  करता   है ‘ ,

‘और  अहंकार ‘ सदा  ‘माफी  सुनना’ ‘ पसंद  करता  है’  |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In सुविचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…