Home सुविचार सुविचार !

सुविचार !

0 second read
0
0
1,247

प्रार्थी  की  प्रार्थना   तभी   स्वीकार   होती   है   जब   सच्चे   मन  और   शुद्ध  ह्रदय   से   सच्ची   मांग   प्रस्तुत   की   जाए  | वास्तव  में  देखें  तो  हम   सभी  ‘ईश्वर  के  बहाने ‘  अपने  आप  से  प्रार्थना   करते  हैं  कि   हम   अपने   ‘ज्ञान  का  उपयोग’  ‘लाभ-दायक  इच्छाओं  की  पूर्ति  हेतु  करने   की ‘  ‘ताकत   बनी   रहे ‘ |”      

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In सुविचार

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…