Home कविताएं देशभक्ति कविता सियासत दानों खूब लड़ो अपनी चतुराई से सब कुछ निचोड़ डालो

सियासत दानों खूब लड़ो अपनी चतुराई से सब कुछ निचोड़ डालो

0 second read
0
0
1,230

सियासत दानों’ –‘खूब लड़ो’ , ‘अपनी चतुराई से’ ‘ सब कुछ निचोड़ डालो’ ,
‘देश हित जब सामने हो’ , ‘सब कुछ भूल कर’ ‘सहमति से काम लो’ ,
‘संसद’ ‘ देश का सर्वोच्च’ ‘ भाग्य-पटल है’ , ‘उसकी गरिमा बचाओ ‘,
‘देश’ ‘ रसातल में चला जाए’ ‘ इससे पहले’ , ‘उसे बचाओ’,’ बचाओ’ ‘,बचाओ ‘ |

Load More Related Articles
Load More By Tara Chand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धकेल देगा

‘कामयाबी पर गुमान’ , ‘शेर-दिल ‘ को भी ‘गुमनामी मे ‘ धक…