Home ज़रा सोचो ” सही बंटवारा ” ! यही सोच और पहल की जरूरत है –एक प्रेरक प्रसंग ” !

” सही बंटवारा ” ! यही सोच और पहल की जरूरत है –एक प्रेरक प्रसंग ” !

0 second read
0
0
1,004

पापा  जी  !  पंचायत   इकठ्ठी   हो   गई  ,  अब  बँटवारा   कर   दो ।”   कृपाशंकर   जी   के   बड़े   लड़के   गिरीश   ने 

 रूखे   लहजे   में   कहा ।

“हाँ  पापा  जी  !  कर  दो  बँटवारा  अब  इकठ्ठे  नहीं  रहा  जाता  ”  छोटे  लड़के  कुनाल  ने  भी  उसी  लहजे  में  कहा  ।

पंचायत   बैठ   चुकी   थी ,  सब  इकट्ठा  थे ।

कृपाशंकर  जी  भी  पहुँचे  ।

“जब   साथ   में   निर्वाह   न   हो   तो   औलाद   को   अलग   कर   देना   ही   ठीक   है  ,  अब   यह   बताओ   तुम   किस  बेटे

के   साथ   रहोगे  ? ”  सरपंच   ने   कृपाशंकर   जी   के   कन्धे   पर   हाथ   रख   कर   के  पूछा  ।

कृपाशंकर   जी   सोच   में   शायद   सुननें   की   बजाय   कुछ   सोच   रहे   थे  ।   सोचने   लगे   वो   दिन   जब   इन्ही   गिरीश

और   कुनाल   की   किलकारियों   के   बगैर   एक   पल   भी   नहीं   रह   पाते   थे  ।   वे   बच्चे   अब   बहुत   बड़े   हो   गये   थे ।

अचानक   गिरीश   की   बात   पर   ध्यान  भंग  हुआ ,

“अरे   इसमें   क्या   पूछना  ,   छ:   महीने   पापा   जी   मेरे   साथ   रहेंगे   और   छ:   महीने   छोटे   के   पास   रहेंगे  ।”

“चलो   तुम्हारा   तो   फैसला   हो   गया  ,   अब   करें   जायदाद   का   बँटवारा   ???”   सरपंच   बोला । 

कृपाशंकर   जी   जो   काफी   देर   से   सिर   झुकाए   सोच   मे   बैठे   थे ,  एकदम   उठके   खड़े   हो   गये   और   क्रोध  से

आंखें   तरेर   के   बोले,

“अबे   ओये   सरपंच ,  कैसा   फैसला   हो   गया   ?   अब   मैं   करूंगा   फैसला  ,   इन   दोनों   लड़कों   को   घर   से   बाहर 

 निकाल   कर  ।”

सुनो   बे   सरपंच  ,   इनसे   कहो   चुपचाप   निकल   लें   घर   से  ,   और   जमीन   जायदाद   या   सपंत्ति   में   छः   महीने

 बारी   बारी   से आकर   मेरे   पास   रहें  ,   और   छः   महीने   कहीं   और   इंतजाम   करें   अपना  ।   फिर   यदि   मूड   बना 

 तो   सोचूँगा  ।

“जायदाद   का   मालिक   मैं   हूँ   ये   सब   नहीं  ।”

दोनों   लड़कों   और   पंचायत   का   मुँह   खुला   का   खुला   रह   गया  ,   जैसे   कोई   नई   बात   हो   गई   हो  । 

 इसी   नयी   सोच   और   नयी   पहल   की   जरूरत   है  ।

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In ज़रा सोचो

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…