सत्कर्म करो

0 second read
0
0
1,514

‘जो  धन’‘अपना  शौक  पूरा  करने में’ ‘लुटाते  हैं धन्ना सेठ’ ,

‘काश’ ! ‘उस खर्च से कुपोषण बचाते’,‘कमज़ोरों  को  काम दिलाते’ ,

‘स्वच्छ  भारत  हेतु’  ‘धन  लगाते’ , ‘शिक्षा  पर  ध्यान  देते’ ,

‘हजारों  की दुआएं  मिलती’,‘मुकद्दर  के  सिकंदर  बन चमकते’ |

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…