Home कविताएं देशभक्ति कविता “सख्ती से कानून का पालन ही” “हर समस्या का समाधान है ” |

“सख्ती से कानून का पालन ही” “हर समस्या का समाधान है ” |

0 second read
0
0
1,154

आपस  में  उँगलियाँ  उठा  कर “, “प्याज़   के  छिलके   उतारे  जा  रहे  हैं ” ,

“अगर   इल्ज़ाम   लगे   खुद   पर ‘, ‘सभी   कहते   हैं – फंसाया  जा   रहा   है’  ,

“किसी   भी   भ्रष्ट   व्यवहार    पर ” ,”देश   के   कानून   की  पकड़  ढीली   है ‘ ,

“देश   में   जीवन   के   हर   स्तर   पर  गिरावट “, “पूरी   तरह   समा  गयी  है “,

“देश   के   कर्णधारों  ‘ ! ” खाली   सख्त   कानून   बनाने  से  क्या  भला  होगा “,

“कानून   को   बेरहमी  से  लागू  करो “, “ताकि   गलत   करने वाले  काँप  उठें ” ,

“पापियों   की   सात   पीढ़ियों   तक “, “भयानक   डर  का  अहसास   जाग  उठे” ,

“बुरे   काम    का   बुरा   फल   होता   है ? ,’ बुरा   सोचते    ही    मिल   जाएगा ” | 

Load More Related Articles
Load More By Tarachand Kansal
Load More In देशभक्ति कविता

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

Check Also

[1] जरा सोचोकुछ ही ‘प्राणी’ हैं जो सबका ‘ख्याल’ करके चलते हैं,अनेक…